किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा 5/5 (10)

किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा – kisi ka rishta todne ka wazifa

किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा – kisi ka rishta todne ka wazifa, किसी का ‘रिश्ता’ से मतलब निकाह के लिए मंगनी से होता है। यह अल्लाताला की मर्जी के बगैर न तो बन सकता है और न ही बिगड़ सकता है। मनपसंद लड़की से निकाह होना सौभाग्य की बात होती है।

इसी तरह से अपने बाॅयफ्रैंड के साथ ही किसी लड़की की शादी तय होना भी उसकी अच्छी किस्मत कही जा सकती है। जब इसमें रूकावट आ जाती है तो बाधक बनने वाले रिश्ते को तोड़ना ही सही कदम होता है।

किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा

किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा

कुरान में कई वजीफे और दआएं दी गई हैं, जिनकी बदौलत ऐसे बाधक बनने वाले रिश्ते को तोड़ा जा सकता है। इसे जानने से पहले यह समझ लेना जरूरी होता है कि वै कौन सी परिस्थितियां होती हैं जब रिश्ते को तोड़ने की नौबत आ जाती है। 

कोई जरूरी नहीं है कि पारिवारिक सहयोग या उनकी मर्जी से तय किए जाने वाले रिश्ते लड़का या लड़की को पसंद ही हो। वे बेमेल भी हो सकते हैं और एक-दूसरे के बेमर्जी की भी हो सकती है।

इस वजह से अक्सर दो प्रेमियों के दिल टूटते हैं और दो को जबरन थोपा हुआ रिश्ता मिलता है। कुछ मामले में लड़की जिसे प्यार करती है उससे शादी नहीं होने पर वह अल्लाताल से यही दुआएं करती है कि उसके बाॅयफ्रैंड की शादी जिससे होने वाली है, वह टूट जाए।

इसके लिए वह वजीफे पढ़ती है और दुआओं की अमल करती है। टोटके का सहारा लेती है। इसी तरह से एक मजबूर महबूब भी अपनी महबूबा के साथ शादी करने के लिए उसकी होने वाली मंगनी को तोड़ सकता है।    

 अपने रिश्ते को तोड़ने का वजीफा 

अपने रिश्ते को तोड़ने का वजीफा , इस वजीफे को लड़का या लड़की दोनों अपनी सहुलियत और सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं। वैसे इसका प्रयोग

तभी किया जाना चाहिए जब किसी की जबरदस्ती शादी तय हो गई हो। अर्थात इसे अपनी की शादी तोड़ने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे पढ़ने और उपयोग में लाने का तरीका इस प्रकार है-

  • जुम्मे के दिन से पढ़ने की शुरूआत करने वाला वजीफा है- या अल्लाह या रेहमान या रहीम।
  • शुक्रवार के दिन रात के 11 बजे घर के एकांत स्थान चुनकर साफ चदर बिछाएं। उसपर मक्का की तरफ मुंह कर बैठ जाएं।
  • पहले नमाज पढ़ें और फिर दरूदे शरीफ सात बार प़ढ़कर वजीफे को 111 बार पढ़ें। 
  • अंत में एक बार फिर से दरूदे शरीफ को सात बार पढ़ें।
  • इस अमल को पांच जुम्मे तक करें। हर बार अल्लाह से अपनी दुआ तोड़ने और अपने पसंद के जीवन साथी से नाता जोड़ने की दुआ करनी है।

दूसरे का रिश्ता तोड़ने का वजीफा

इस वजीफे की मदद से दूसरे का रिश्ता तोड़ा जा सकता है। यह उनके लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है, जिनकी महबूब या महबूबा की शादी किसी दूसरे के साथ हो रही है। इसके अमल का तरीका इस प्रकारे से अपनाना चाहिए।

  • इसकी शुरूआत किसी भी शुक्रवार की रात को सोने से ठीक पहले करना चाहिए।
  • अपने बिछावन पर ही साफ चादर बिछाएं और बैठ जाएं। पहले तीन बार दुरूद-ए-पाक पढ़ें। उसके बाद सिर्फ एक बार दरूद शरीफ पढ़ें।
  •  उसके बाद अल्लाताल के पाक नाम या करिमो पढ़ें। इसे पढ़ना शुरू करने के बाद आपको अपना ध्यान अल्लाताला पर लगाना है। अपनी होने वाली जीवनसाथी का ध्यान करते हुए मन में ही उसका रिश्ता तोड़ने की बात करनी है। 
  • इस वजीफे को पढ़ते सो जाना है। इंशा अल्ला ऐसा करने से आपको कामयाबी मिलेगी। इसे पढ़ते वक्त आपके मन में आपकी हाजत होनी चाहिए। यह कतई नहीं भूलें कि इसे पढ़ने वाले व्यक्ति की मदद फरिश्ते करते हैं। 

रिश्ते की मंगनी हो जाने बाद तोड़ने की दुआ

अगर रिश्ते के लिए मंगनी हो जाए तब भी उसे दुआ के जरिए उसे निम्न तरीके को सिलसिलेवार रूप से अपनाकर तोड़ा जा सकता है।

  • इस अमल को माह की 15 तारीख के बाद किसी भी हफ्ते में मंगलवार या शनिवार को शुरू किया जा सकता है।
  • अपने पास नमक की सात डलियां रखनी होगी और नीचे दी गई आयत को पढ़ना होगा।
  • आयत है-सुभनाल लाजी खालाकाल अजवाजा कुल्लहा मिम्मा तुमबेतुल। अर्दो वा मिन अंफुस्हििम वह मिम्मा ला या लामून।
  • इस आयत को नमक की हर डलिया को हाथ में लेकर पढ़ें। उसपर दम करें यानी फूंक मारें। नमक यदि चूर्ण में उपलब्ध हो तो एक चुटकी हाथ में दबाकर आयत को पढ़ें। 
  • आयत को पढ़ने से पहले और बाद में दारूद शरीफ को सात-सात बार पढ़ें। 
  • इस तरह से पढ़े गए नमक को अगले रोज नदी के बहते पानी में डाल दें। 

इस दुआ को प्रेमी या प्रेमिका दोनों कर सकते हैं। प्रेमिका के एक हिदायत दी गई है कि वह अपनी माहवारी के दौरान इस अमल को नहीं करें। 

 रिश्ता तोड़ने का टोटका

टोटका नंबर 1ः अगर आपके प्रेमी की शादी आपसे नहीं होकर किसी और से होने जा रही है, तो दुखी या निराश होने की जरूरत नहीं है। बहुत ही आसान टोटके से उसकी होने वाली मंगनी को तोड़ सकते हैं। एक मिट्टी का बर्तन लंे, जो छोटा से घड़ा हो सकता है।

उसमें काल तिल और चावल 100-100 ग्राम डाल दें। घड़े के मुंह को सफेद कपड़े से बांध लें। कपड़े पर अपने प्रेमी या प्रेमिका का नाम लिख दें। उसके बाद रात के बारह बजे किसी चैराहे पर उस घड़े को रख दें। अपने प्रेमी या प्रेमिका का नाम सात बार लकर वापस लौट आएं।

ध्यान रखें यह सब करते हुए कोई आपको देखने नहीं पाए। इस उपाय को शनिवार के दिन आरम्भ कर अगले 10 दिनों तक लगातार किया जाना चाहिए।

टोटका नं. 2ः अपने प्रिय की किसी दूसरे के साथ तय हो चुकी सगाई को रोकने के लिए इस टोटके को दस दिनों तक लगाता करें। शुरूआत शनिवार या मंगलवार को छोड़कर किसी भी दिन से करनी है।

सबसे पहले एक एक नींबू लें और उसपर अपने प्रेमी का नाम उसके जन्म की तारीख और उसकी मां का नाम काली स्याही की कलम से लिखें। नींबू को काले सफेद चरखाने वाले रूमाल में बांध दें।

रात को सोते समय उसे अपने तकिए के नीचे रखकर सो जाएं। इससे पहले अल्लाताला का ध्यान कर नमाज अता कर लें। साथ ही नींबू बंधे रूमाल से सात मर्तबार दम कर अपने सिर के ऊपर से वार लें।

kisi ka rishta todne ka wazifa or kisi ka rishta todne ki dua hamare molana dwara pradan ki jati hai .jis kisi ko kisi ka rishta todne ka upay ya kisi ka rishta torne ka wazifa chaheye wo hamse sampark kare. hum aapko pakka kisi ka rishta todne ka amal or kisi ka rishta kaise tudwaye ka jawab dege, yadi aap hamse puchna chahate hai ki kisi ka rishta kaise tode to jarur humse puche.

सौतन से छुटकारा पाने की दुआ

Please rate this

Review किसी का रिश्ता तोड़ने का वजीफा.

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

*